कांग्रेस नेता डोटासरा ने दलित छात्र के परिजनों के लिए 20 लाख रुपये की आर्थिक सहायता की घोषणा की..!!

जालोर – के सुराणा में 9 साल के तीसरी कक्षा के छात्र इन्द्र मेघवाल की मौत मामले में मंगलवार को भी प्रदेश सरकार मंत्रियों के पहुंचने का सिलसिला जारी रहा. मंगलवार को पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा, महिला एवं बाल विकास मंत्री ममता भूपेश, मंत्री गोविंदराम मेघवाल, राज्य मंत्री अर्जुन बामणिया, जनअभाव अभियोग निराकरण समिति अध्यक्ष पुखराज पाराशर, मंत्री भजनलाल जाटव पहुंचे और परिजनों से मुलाक़ात कर सांत्वना दी. इस दौरान डोटासरा ने आश्वासन दिया कि परिवार को उचित मुआवजा दिया जाएगा. सक्रिट हाउस में पीसीसी चीफ़ गोविंदसिंह डोटासरा ने पत्रकारों से रूबरू होते हुये पीड़ित परिवार की आर्थिक सहायता के लिए 20 लाख की राशि की घोषणा की, यह राशि प्रदेश कांग्रेस कमेटी पीड़ित परिवार को देगी.

पीसीसी चीफ़ ने कहा की मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से फ़ोन कर बातचीत की हैं, पूरे मामले से मुख्यमंत्री को अवगत करवाया हैं वहीं परिजनों की मांग से भी मुख्यमंत्री को अवगत करवाया, पीसीसी चीफ़ ने कहा की जयपुर जाकर मुख्यमंत्री से मुलाक़ात कर विस्तार से चर्चा होगी और सकारात्मक नतीजा निकलेगा. सुराणा गांव में प्रदेश सरकार के मंत्रियों से गांव के ग्रामीणों ने मुलाक़ात की वही ज्ञापन देकर पूरे मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की. वही मटकी से पानी पीने के कारण मारपीट की बात तो झूठी बताया वही मामले में उच्च स्तर की जांच की मांग की. डोटासरा के पहुंचने के करीब 15 मिनट बाद बारां-अटरू विधायक पानाचंद मेघवाल भी पहुंचे और पीड़ित परिवार से मुलाक़ात के बाद संतुष्ट दिखे, हालाँकि एक दिन पूर्व विधायक ने मुख्यमंत्री को इस्तीफ़ा भेजा था. पूर्व मंत्री गोलमा देवी करीब 10.30 बजे सुराणा गांव पहुंचीं और पीड़ित परिवार से मुलाकात की. गोलमा देवी ने बताया कि सांसद किरोड़ी लाल मीणा को पुलिस ने पाली पर रोक दिया. इस कारण मैं यहां आई हूं. गोलमा देवी ने कहा कि सरकार को हमारी मांगें माननी होंगी. गोलमा देवी ने मृतक की मां को सांसद किरोड़ीलाल की एक महीने की सैलरी 1 लाख की राशि दी.

सचिन पायलट भी शाम को पीड़ित परिवार के घर सुराणा पहुंचे और परिजनों से मुलाक़ात कर सांत्वना दी. प्रेस से रूबरू होते हुये कहा की पीड़ित परिवार की मांगों को सरकार को सुनना चाहिये, पीड़ित परिवार पुलिस अधिकारियों व एडीएम की शिकायत कर रहे हैं, सरकार को जांच करवाकर कार्रवाई करनी चाहिए. राज्य मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष जस्टिस जीके व्यास ने भी पहुंचकर पीड़ित परिवार से मुलाक़ात की. वहीं सांत्वना दी. जस्टिस जीके व्यास ने कलेक्टर निशांत जैन व एसपी से अभी तक मामले में की गई कार्रवाई की तथ्यात्मक रिपोर्ट ली

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: