अहमदाबाद राजस्थान स्थानकवासी जैन संघ 28 दिसंबर 2021

समाचार की दुहाई देकर परस्पर दिवाल खड़ी करना एकता को छिन्न-भिन्न करना अधर्म और पाप है उक्त विचार राष्ट्र संत कमलमुनि कमलेश ने संबोधित करते कहा कि जहां परस्पर संत समाज आपस में प्रेम से नहीं मिल सकती सौहार्द से एक साथ नहीं रह सकती समाज को  क्या रास्ता दिखाएंगे उन्होंने कहा कि भगवान महावीर और पार्श्वनाथ के संतों की समाचारी अलग थी परंतु दोनों का परस्पर मिलन अद्भुत था  मुनि कमलेश ने बताया कि घटक वाद पंथवाद के कारण होने वाले बिखराव से शासन की हिलना हो रही है राष्ट्रसंत ने स्पष्ट कहा कि जब तक संतो में आपस में प्रेम नहीं होगा उनके प्रवचन का प्रभाव जनता पर नहीं पड़ेगा

तेरापंथ के वरिष्ठ संत और मुनि कमलेश में सभी संप्रदाय के संतो को एक मंच पर लाने का प्रस्ताव पास किया मूर्तिपूजक महा साध्वी जी ने इसे ऐतिहासिक निर्णय बताया राजस्थान हॉस्पिटल में एक्सीडेंट वाले महा सती जी का स्वास्थ्य एवं सुधार पर है मुनि कमलेश हमेशा अस्पताल सेवा में पहुंच रहे हैं – सववाददाता फारूक मेमण खेरालु

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: