गांधीनगर महावीर भवन 18 जनवरी 2021

vप्रशंसा सुनकर खुश होता है निंदा सुनकर दुखी होता है वह नादान और अज्ञानी उक्त विचार राष्ट्रसंत कमल मुनि कमलेश ने  मरुधर केसरी श्री मिश्रीमल जी महाराज कि पुण्यतिथि पर संबोधित करते कहा कि प्रशंसा मीठा जहर जिसमें चापलूसी करने वाले सन्मार्ग से भटका देते हैं और निंदक जो हमें सन्मार्ग प्रदान करते हैं उन्होंने कहा कि स्वार्थ की पूर्ति हुई तो प्रशंसा कमी पड़ी तो निंदा करने पर उतारू हो जाते हैं वह दया के पात्र हैं मुनि कमलेश ने कहा कि निंदा करने वाला अपने आत्मा के कर्मों की निर्जरा करता है हमारे लिए परमात्मा का स्वरुप है राष्ट्रसंत ने बताया कि ईगो टकराता है इंसान भी शैतान का रूप ले लेता है भगवान को भी नहीं छोड़ता है      

जैन संत ने कहा कि निंदा की परवाह न करते हुए निरंतर आगे बढ़ता है सफलता उसके चरण चूमती है और वही निंदा करने वाली प्रशंसक बन जाते हैं अखिल भारतीय श्वेतांबर स्थानाक्वासी जैन कॉन्फ्रेंस नई दिल्ली बिहार धान के राष्ट्रीय अध्यक्ष नंदू भाई भटेवरा पूर्व राष्ट्रीय युवा अध्यक्ष सागरमल सांखला मनसुखभाई गूगले का दिवाकर मंच अहमदाबाद के अध्यक्ष प्रकाश चंडालिया ने सम्मान किया विहार धाम गुजरात के अध्यक्ष मनोज डांगी  को नियुक्त किया आज महावीर पुस्तकालय बनाने का प्रस्ताव पास किया कौशल मुनि ने मंगलाचरण किया घनश्याम मुनि गौतम मुनि ने विचार व्यक्त किए – सववाददाता फारूक मेमण खेरालु

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: