गांधीनगर सेक्टर 26 सिंघवी भवन 23 जनवरी 2021

एक दूसरे में गलतफहमी पैदा करके अविश्वास का माहौल पैदा करने वाला सबसे बड़ा पापी है उक्त विचार राष्ट्र संत कमलमुनि कमलेश ने संबोधित करते कहा कि अविश्वास आने पर  आस्था नफरत में बदल जाती है भगवान भी शैतान के रूप में नजर आने लगता है विकास रुक जाता और पतन शुरू हो जाता है

उन्होंने कहा कि सोना तपने पर निखरता है वैसे ही अविश्वास के क्षणों में भी विश्वास और मजबूत होना चाहिए कितना ही संकट और अग्नि परीक्षा आ जाए मुनि कमलेश ने बताया कि बढ़ती लोकप्रियता को देखकर स्वार्थी तत्व बौखलाहट से रिश्तो में अविश्वास का जहर घोलते हैं राष्ट्रसंत ने कहा कि जिस पर अविश्वास लाते हैं उसका कोई नुकसान नहीं होता हम भटक जाते हैं और  अनंत संसार बढ़ाता है जैन संत ने कहा कि  अविश्वास के कारणों का समाधान करना चाहिए तभी साधना के क्षेत्र में  आगे बढ़ेंगे अविश्वास अंधकार जहर है जिससे वात्सल्य और सद्भाव नष्ट हो जाते हैं  अखिल भारतीय जैन दिवाकर विचार मंच ने दिल्ली महिला शाखा गांधीनगर ने सफाई कर्मचारी और स्थानक में काम करने वालों का अभिनंदन करती हुई – सववाददाता फारूक मेमण खेरालु

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: